तेरे सपनों में खो जाता हूं

जरा बता तो सही, क्या तू भी,
कभी सोचती है, मेरे बारे में,
क्या, सुनते हुए तराने,
मैं आता हूं, तेरे ख्यालों में,

वक़्त था, जब मैं कुछ और था,
नहीं था शौक मुझे नगमो का,
अब सुनता तो हूं, पर कहा सुन पाता हूं,
अंतरा आते ही, तेरे सपनों में खो जाता हूं।।

देव

Leave a Reply