पर विश्वास है, मेंरे लिए काफी है,

वक़्त मेरा, बस मेरे परिवार के लिए होता है,
हरदम मेरे घर में, साथ में खाना होता है,

दोस्त बनाता हूं, मगर भीड़ से डर लगता है,
जिन्हे घर नहीं ला सकता, उन्हें तुरंत गुड बाय कहता हूं,

जितना कमाता हूं, बस यही है,
पर विश्वास है, मेंरे लिए काफी है,

हां, इज्जत भी बहुत कमाई है मैंने,
नजरे झुका सके मेरी, दम नहीं किसी में,

देव

Leave a Reply