मुझसे ना करो इश्क़, पछताओगे

मुझसे ना करो इश्क़, पछताओगे,
यहां सूखी नज़रे है, अश्क भी ना पाओगे।।

ढूंढ़ती सी कभी, जिंदगी आ गई थी,
खंडहरों में मेरे, उसको भी ना मिला बसर,

सब कुछ रुका सा है, थमा सा है यहां,
जब से वो गई है, वक़्त ठहर सा गया।

देव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s