तु यारो का यार है।

बस एक ही तो मुलाकात की,
मगर, तुझमें अलग बात है,
लगा तब भी, तू अपना सा,
तु यारो का यार है।

यूं ही नहीं घिरा रहता है तु,
अक्सर, हुस्न के सायों से,
ये सजा है, जो तेरे चेहरे की,
कातिलाना मुस्कुराहट है।

सुना था, चल रहा कुछ खास था,
हुआ तुझे मोहब्बत का बुखार था 😉
कुछ खुश, कुछ के टूटे दिल थे यहां ,
खिल उठे, जब किया खण्डन तूने यार था।।🤣🤣🤣🤣

देव

21/09/2020, 11:18 am

Leave a Reply