प्यार अभी बाकी है।

कह दो दरखतों से, यूं मायूस ना हो,
धूप तेज है, मगर हवा में नमी, अभी बाकी है।

जो यार कहते थे, वही तोहमतें लगाते है,
तुम क्या सोचती हो, बस बात यही काफी है।

महफिल थी कभी, अब सब छोड़ चले,
कोई नहीं, मगर बस तुम्हारा साथ काफी है।

बड़ा वक्त हो गया, ना जाने कहां गुम है वो,
साथ नहीं, लेकिन दिलों में, प्यार अभी बाकी है।

जानता हूं, नहीं चल सकती, तुम मेरे जनाजे में,
नाम लेकर मेरा, चुपचाप दो अश्क बहाना तेरा काफी है।।

देव

24/09/2020, 11:07 am

Leave a Reply