उलझे रिश्ते

बेतरतीब से बालो को, संवारना उनसे सीखो,
उलझे रिश्तों को भी, वो पल मे संवार है देते।।
देव
15/01/2021, 10:32 pm

Leave a Reply