मेरे लब्ज़!

मेरे लब्ज़, मेरे कहां, तेरी अमानत है,
लिखा मैंने, मगर तेरे नाम की आयत है।।
देव
14/01/2021, 6:59 pm

Leave a Reply