बेफ़िक्री मे!

उसकी बेफ़िक्री मे भी, ढूंढ ली मैंने फिक्र
यूं ही नहीं करती है, हर महफिल मे, मेरा जिक्र।।
देव
25/01/2021, 12:50 am

Leave a Reply