ग़ज़ल कहूँ!

ग़ज़ल कहूँ, या ख्याल कहूँ,
तेरे हुस्न को, मैं क्या कहूँ।
देव
27/01/2021, 6:49 pm

Leave a Reply