दिल है टूटा।।

आज फिर से, कुछ है टूटा,
कहीं शीशा, कहीं दिल है टूटा।।
देव
27/01/2021, 9:56 pm

Leave a Reply