सब्र की तलाश

सब्र की तलाश में, बेसब्र हो चला था वो,
ना महफिल का रहा, ना मंजिल मिली उसे।
देव
03/02/2021, 11:17 am

Leave a Reply