मंजिल

है मंजिल, यूं तो करीब बहुत,
बस रास्ते, बढ़े इतरा कर जाते है।
देव
16/02/2021, 12:17 am

Leave a Reply