हर किसी के जह़न में, बसी तू है।

रौनक, तेरे चेहरे की, कुछ अलग यूं है,
हर किसी के जह़न में, समाई तू है।

तेरे नाम की, हर तरफ बौछार यूं है,
हर दिल के, एक कोने में, बसी तू है।

तेरी उम्मीद पर, ना जाने कितने लूट गए यहां,
फिर भी, कई दीवानों की, ख्वाहिश तू है।।

देव

14/09/2020, 12:10 pm

Leave a Reply