नज़रों में नमी सी

ना जाने कब, मेरी आंखे,
मेरे ज़हन के करीबी हो गई,
जब भी याद तुझे किया,
नज़रों में नमी सी हो है।
देव
12/02/2021, 1:22 pm

Leave a Reply