बोझ

इश्क़ तो इश्क़ है,
जो दिलो में जान लाता है,
वरना बस रिश्ता रह जाता है,
हर रिश्ता, एक दिन
बोझ बन जाता है।
देव
17/02/2021, 11:18 am

Leave a Reply