रेल यात्रा

This is based on our current experience, we had। a journey starting from Delhi।।। It was fun but also bit pain in starting।।

कुछ यू शुरू हुआ सफर हमारा
कुछ बैठे सुकून से कुछ फसे
लोगो के जंजाल में

लगता है, सीट देने में भी व्यूह रचना हुई है
कोई एक डिब्बे के एक कोने में है
तो किसी की दरवाजे के पास चौकी लगी है

ट्रेन सफर भी अजीब होता है
जिसके पास टिकट होता है
वहीं गरीब होता है

मजे तो डेली अपडाउन वालो के आते है
जब उनसे चिपट कर गुजरते हुए
लोग अपने कंपार्टमेंट की तरफ जाते है

कुछ लोग तो इसीलिए रास्ते में ही
अपना जमघट लगाते है
भीड़ का फायदा उठा, अपना शौक पूरा कर जाते है

टी टी की लाचार नज़रे उसकी
परेशानी बताती है
भाई, आप तो अगले स्टेशन पे उतर जाओगे
मुझे तो इसी रूट पे अपनी जिंदगी बितानी है

ये तो भीड़ है, कब फेक दे चलती ट्रेन से नीचे
कुछ ना जाएगा इनका, मेरी जान तो जानी है

बस, कुछ स्टेशन के बाद जब भीड़ उतरी
मैंने एक गहरी सांस ली,
और साथियों की तलाश करी

जल्दी वो भी जुड़ गए कारवा के साथ
लेकिन उनके चेहरे बता रहे थे उनके हालात

जैसे कि, वो कोई बड़ी लड़ाई लड़ कर आ रहे हो
जिंदा तो है, लेकिन हार के आ रहे हो

चलो, ये तो कुछ व्यंग है हालात पर रेल में
पर आता है काफी मजा जब चलते है रेल में

कुछ सांत्वना देकर, कुछ दुख दर्द सुन कर उनके
किया आगे का सफर चालू
सोचा चलो अब डिनर वक़्त हो गया है
सभी साथियों को बुला लू

किसी में आलू, कहीं गोभी, कोई पराठे लाया है
और वो असम की हरिमिर्च ने क्या बवाल मचाया

मिठाइयों के डब्बे की तो शामत ही आगई
गाजर के हलवे ने, सच में जंग लड़वाई

फिर बजा बिगुल, अंताक्षरी युद्ध का
गानों के चले अस्त्र, शस्त्र हो हल्ले का

वानर सेना भी, लगी सीटों पर लटकने
पड़ोसी हुआ परेशान, करने लगे मन्नते

कहा, भाई, तुझमें है हिम्मत तो कर दे कुछ इनका
तुझसे ज्यादा भला होता जिन्होंने पैदा किया उनका

और हम तो वैसे भी कहा उनसे समझ आते
हम ही है जो वानर सेना के मा बाप कहलाते

तो भगवान ही उनको बचा सकता था हमारे शोर से
हमारे इरादे भी उस दिन बड़े घनघोर थे

बच्चो को सुला कुछ और मस्ती करते गए
एक एक कर जब पस्त हुए, सोते गए

ट्रेन में सोता देखना भी बड़ा अजीब है
बस कल्पना ही करो, यहां लिखना अलाउ नहीं है

बाकी बचे दोस्त भी थे बड़े शैतान
सोतो को उठाना, था उनका काम

चलो, अब देर रात हो गई, हम भी सो जाते है
बाकी का किस्सा अगली कविता में सुनते है

देव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s