अब उमर बची नहीं काफी

Happy valentine’s day to singles waiting for Thier love

वो, कहीं तो होगी
मेरी तमन्ना, मेरी आरज़ू
मिल जाए आज अगर
तो बैठूं, कुछ पल
करने कुछ बांते

कुछ गिले शिकवे,
और कुछ शिकायते,
कहा थी गुम वो कहीं
क्यूं थी तन्हा मेरी रातें

उसकी नज़रों से मिला नज़रे
उतर कर जेहन में उसके
काश पता लगा पत
जागी है वो भी कितनी रातें

अब वक़्त गुजर गया काफी
हद से ज्यादा हो गई बेताबी
अब तो मिल जाओ, सनम मेरे
अब बची नहीं उमर काफी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s