इश्क़ करना जानता हूं

नशा, मुझको है जिंदगी का
बस, हंसना जानता हू
चाहे छोटे है दिन मेरे
बड़ा बनाना जानता हूं

मुश्किलों से डरना नहीं
लड़ना जानता हूं
यारो के साथ बस पीना नहीं
जीना जानता हूं

सुख दुख तो आते जाते हैं
खुश रहना जानता हू
जमाने की हजार बातों से
बेफिक्र रहना जानता हूं

खौफ जुदा दिलो को
बेखौफ करना जानता हूं
नफरतों के इस दौर में
इश्क़ करना जानता हूं

देव

One thought on “इश्क़ करना जानता हूं

Leave a Reply