ये दोस्ती, ही तो है, जिंदा हूं मैं यहां

तुम हो तो मैं हूं, वरना मैं, मैं कहा,
तुम है तो मै हूं, वरना, दो पल का मेहमा।

ये दोस्ती, ही तो है, जिंदा हूं मैं यहां,
नहीं दोस्ती, तो तू कहां, मैं कहां।

मुझको मैं बना कर, कहीं चल ना देना तू,
तू नहीं, तो जहां में, मेरा है क्या।।

देव

Leave a Reply