मेरी ख्वाहिश, यही चाहेगी

अश्क तेरे बहने से पहले,
आंखे मेरी भर आएंगी,
तेरा चेहरा मुस्कुराता रहे,
मेरी ख्वाहिश, यही चाहेगी।

बेवजह क्यूं तुम शरमाते हो,
यूं दिल में, उतर जाएगी,
तेरा चेहरा मुस्कुराता रहे,
मेरी ख्वाहिश, यही चाहेगी।

हाथ अपना, ना बढ़ाना जरा,
थाम लूंगा तो, उम्र गुज़र जाएगी,
तेरा चेहरा मुस्कुराता रहे,
मेरी ख्वाहिश, यही चाहेगी।

शौक मोहब्बत का, लगा है मुझको,
इश्क़ बेपनाह, तू पाएगी,
तेरा चेहरा मुस्कुराता रहे,
मेरी ख्वाहिश, यही चाहेगी।

देव

2 जुलाई 2020

Leave a Reply