तिरंगा

मिटा दू मैं अपनी पहचान, तेरे वास्ते पल में
तू मुझको, तेरे होने का अहसास करा दे,

तू है वही, जो मिलता है, हर साल दो बार,
तू हर रोज, हर गली में मिल कर दिखा दे,

है इश्क़ आज भी मझे, हद से ज्यादा, तुझसे,
है इश्क़ तुझे मुझसे, तो आज दिखा दे,

निकलूंगा पहन तिरंगा, बेखौफ जहां में,
तिरंगा तू इक बार, तेरा है बता दे,

नजर आता है, अक्सर तू,बाद मातम में, शहीदों के,
तेरा चेहरा, जरा हर शख्स में, इक बार दिखा दे,

चल, करता हूं, शुरुआत, मैं अपने से, अभी से,
तू मुझको, बेटा अपना, चिल्ला कर, सबको बता दे,

देव

Leave a Reply