नई पारी खेलनी है।

जिम्मेदारियां बहुत उठा ली,
अब जिन्दगी जीनी है,
अब तुम्हे, एक
नई पारी खेलनी है।

नाजुक से हाथो से,
कमसिन उम्र में,
उठा कर बोझ, अपनों का,
तुम चल दी थी,
मुश्किल सफर था,
जटिल रास्ते, और
कोई नहीं था साथ,
मगर, तुम बढ़ चली थी,
अब तुम्हे चैन की,
सांस लेनी है,
अब तुम्हे, एक
नई पारी खेलनी है।

उसका साथ भी मिला,
नन्हों का हाथ भी मिला,
काम के दांतो तले दबे,
वक्त में से,
निकाल कुछ घड़ियां,
उस पारी के साथ,
अठखेलियों में भी निकला,
और बस, यूं ही, वो,
छोड़ कर भी चल दिए,
आंखो में लिए आंसू,
हम तन्हा इस,
जहां में रह गए,
अब बस, तुम्हारी याद,
और बच्चो के प्यार में,
जिन्दगी बितानी है,
अब तुम्हे एक
नई पारी खेलनी है।

अब बस तुम हो, तुम्हीं हो,
अब सारा वक्त तुम्हारा है,
अब नहीं तुमसे, तुम्हारा,
कोई छीन सकने वाला है,
बस, यूं ही मुस्कुराती
तुम रहना,
बेफिक्र सी, जिन्दगी को,
गुनगुनाती सी तुम रहना,
दूर नहीं हम, यही
सब पास है तुम्हारे,
मिलने के लिए,
बस एक आवाज लगानी है,
अब तुम्हे, एक,
नई पारी खेलनी है।

जिम्मेदारियां बहुत उठा ली,
अब जिन्दगी जीनी है,
अब तुम्हे, एक,
नई पारी खेलनी है।

देव

27/09/2020, 10:18 pm

Leave a Reply