आहट

तेरी सांसों को पता है, आहट मेरी,
तेरी आंखो से झलकती है, मोहब्बत मेरी।।

मेरा करीब होना, तेरे रोम जताते है,
तेरे कांपते लब, मेरा हाल बताते है।

तू यूं ही नहीं, बैठती है, आइने के आगे,
मेरे आने का वक्त, तेरा संवारना बताते है।

देव

17/11/2020, 10:09 pm

Leave a Reply