ख्वाब क्यूं देखना!

बस, ख्वाब क्यूं देखना,
जब सच तुम कर सकते हो,
क्यूं अधूरे जीते हो,
जब पूरे हो सकते हो।

वक्त है, अभी, और बस अभी है,
कल क्या होगा, किसको यकीं है,
सांसे, अभी है, जिंदा तभी है,
गर खुश है, तो जिन्दगी है।

देव

05/01/2021, 11:00 pm

Leave a Reply