अधूरे किस्से!

कुछ अधूरे किस्से,
कुछ अनकहे जज़्बात,
आज फिर से मिली,
उनसे गुफ्तगू की रात।
देव
21/01/2021, 4:56 am

Leave a Reply