यार, चल आज तेरी कहानी कहता हूं

जितना जानता हूं, उतने में बयां करता हूं,
यार, चल आज तेरी कहानी कहता हूं,

मिला था बस कुछ पल को,
तुझसे पिछली महफ़िल में,
तेरे चेहरे से झलकती थी,
खुशी, भरे गम में,

बिंदास सा रहना, तेरी आदत है,
जिंदगी जीना, तेरी फितरत है,

मौत को दगा, दे तू आया था,
खुदा से, मुलाक़ात हो, क्या बहाना था

माना, उलझी से है, बहुत तेरी जिंदगी,
छीन लेता ही है, पल अक्सर, पाने को खुशी।।

देव

Leave a Reply