तेरी कहानी, मेरी जुबानी

तुझे मोहब्बत तो मिली,
मगर मुकाम अभी बाकी है,
उसके जवाब का,
इंतेज़ार अभी बाकी है,

यूं तो इश्क़ तुझे भी है,
और उसे तुझसे ज्यादा,
कुछ उलझने, थोड़ी तुझे
और उसे तुझसे ज्यादा,

मगर, एक अहसास है,
वो तेरे पास है,
तेरी बातो में अक्सर,
आता उसका नाम है,

इंतेज़ार, किया है काफी,
अब और क्यूं कर ले,
थोड़ा अपनी मोहब्बत पर भी,
यकीं कर ले,

मिलेगी उससे तू जल्द,
मेरा दिल ये कह रहा है,
मिले खुशियां जहां की,
खुदा से बस यही दुआ है।।

देव

Leave a Reply