Random thouths

[26/04, 4:19 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: काश! इन आसुओं की कीमत होती,
ना बहते, यूं ही, अक्सर रातो में,
काम आ जाते, इश्क़ के बाजारों में।।

देव
[26/04, 11:18 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: ये तो यकीं है, मोहब्बत है तुझे भी, मुझसे,
बस, तू जहान की बातों में, वक़्त जाता करती है।।

देव
[26/04, 11:18 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: अब तो बस दो शब्दो में दुनिया सिमट गई मेरी,
ना वो, कैसी हो, का पूरा जवाब देती है,
ना मैं, ठीक हूं, के सिवा, कुछ और कह पाता हूं।।

देव
[26/04, 11:18 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: यूं तो तू कहती है, पता नहीं मोहब्बत क्या होती है,
मगर, ये कैसे जाना, तू मुझसे, इश्क़ नहीं करती है।।

देव
[26/04, 11:23 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: यूं तो वो, बहुत समझदार है, पर
खुद को समझे, ये हो ना सका।।

देव
[26/04, 11:26 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: साफ दिख रहा है, ये कश्मेकश,
बस दिमाग और दिल की है,
दिल जो कह रहा है, दिमाग
सुनने के काबिल ना रहा।।

देव
[26/04, 11:27 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: बेजान पत्थरों में जान फुक कर,
वो कहते है, फिर पत्थर बन जाओ।।

देव
[26/04, 11:30 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: बादल भी मेरा दर्द समझ रहे है,
बरसते हुए, उसकी ओर, बह रहे है।।

देव

[01/05, 9:09 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: मेरे दरवाजे पर, उसने आज दस्तक दी,
कहा, वक़्त हूं, अपना ले, या निकल जाऊंगा।

देव
[01/05, 9:11 am] Dev… Devkedilkibaat.Com: ना तू पूरी है, और अधूरा मैं भी हूं,
फिर ये हिसाब काहे का।।

देव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s