वो जाड़े की रातें

Every one has some story of childhood, same here, sharing few, one about my study, I had to study either in street or in a vacate horror house…

वो जाड़े की रातें,
होंठ कंपकपाते,
सूना मोहल्ला,
पेड़ों की बातें,

चबूतरे पर,
बिछा कर पलंग,
रजाईयो में खुद को,
घुसा, बन कर दबंग,

किताबों का पड़ना,
एक जज्बे का होना,
नहीं कोई और,
मकसद का होना,

काबिल मुझे,
बनना है एक दिन
मुझको भी कुछ कर
गुजरना है एक दिन,

मेरे घर में नहीं था,
कोई कोना ऐसा,
मगर जुनून पढ़ने का
था है कुछ ऐसा,

अंधेरे से लगता था,
डर काफी मुझको,
मगर एक खाली,
घर मिला था तब मुझको,

कहते थे भूतो का,
डेरा वहां पर,
नहीं जाता था कोई,
रातो में वहां पर,

डर था बड़ा, पर
जुनून भी बड़ा था,
उसी कोठरी में,
कई रातें पढ़ा था,

अब भी याद करता हूं अक्सर,
वो सुनसान राते, वो वीरान घर।।

देव

12 may 2020

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s