हैसियत

अरे, हैसियत ही दिखानी थी,
तो अपनी मोहब्बत जताते,
बदले में, हद से ज्यादा
मोहब्बत पाते,
जिंदगी गुजार जाती,
खर्च करते करते,
सिक्के पर रुपए का ब्याज पाते,
मगर, तुमने चंद सिक्को में,
औकात गिना डाली,
अपनी किस्मत से,
मोहब्बत मिटा डाली।।

देव

30 july 2020

Leave a Reply