आज फिर उसने पलट कर देखा

आज फिर उसने पलट कर देखा
मेरे जज़्बात को उलट कर देखा
नज़रों में ही हाले दिल बयां कर गई
मंजिल कुछ कदम और करीब आ गई

कोशिशों को मेरे एक मुकाम मिला
बेकार दिल को मेरे एक काम मिला
नींद कब की रुसवा बैठी थी मुझसे
सपने सजने का, कारोबार मिला

देव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s